आप करो तो रासलीला, हम करें तो कैरेक्टर ढीला

ऐश्वर्या की न्यूड सीन

खबर है कि बॉलिवुड की नंबर वन फैमिली ‘बच्चन परिवार’ में आजकल सबकुछ सामान्य नहीं चल रहा है. आजकल बिग बी अपनी पुत्रवधु ऐश्वर्या राय बच्चन से खासे नाराज हैं. मामला ऐश के एक फिल्म में न्यूड सीन देने का है. आपको याद होगा कि हाल ही में कान फेस्टिवल में ऐश ने डायरेक्टर मधुर भंडारकर की फिल्म ‘हीरोइन’ में मुख्य भूमिका निभाने की घोषणा की थी.

Aishwarya in Cannes Film Festival- 2011 (Courtesy: movies.sulekha.com)

फिल्म मधुर भंडारकर की हो और एक्ट्रेस को एक्सपोज (कलात्मक ढंग से ही सही) न करना पड़े ऐसा हो ही नहीं सकता. लिहाजा मधुर की इस फिल्म के ऐश को भी खूब एक्सपोज़ करना है. कुछ सीन्स में तो ऐश को न्यूड तक होना होगा, तो कुछ के लिए काफी छोटी बिकनी भी पहननी होगी. वैस शुरुआती स्तर पर ऐश ने इस तरह के सीन देने से इनकार कर दिया था, पर बाद में स्क्रिप्ट की डिमांड के चलते ऐश ने ऐसा करने के लिए हां कर दी है.

ऐश के न्यूड सीन पर बॉलिवुड में भी तमाम तरह की चर्चाएं हो रही हैं. बच्चन परिवार की प्रतिष्ठा को इससे जोड़कर देखा जा रहा है. कहा तो यह भी जा रहा है कि अमिताभ बच्चन अपने परिवार की महिला के इस तरह के दृश्य की बात को बिल्कुल पचा नहीं पा रहे हैं. चूंकि फिल्म मधुर भंडारकर बना रहे हैं, ऐसे में यह भी कहा जा रहा है कि रियल सिनेमा और नैचुरल अपील के दीवाने मधुर किसी भी शॉट के लिए बॉडी डबल के इस्तेमाल की अनुमति भी नहीं देने वाले. बी-टाउन में चल रही चर्चा के मुताबिक, अमिताभ ने इस मुद्दे पर अभिषेक से बात कर उन्हें कहा है कि वह ऐश्वर्या को समझाएं कि उनके इस कदम से बच्चन परिवार की इमेज को गहरा धक्का पहुंच सकता है. अब देखना यह है कि ऐश अपने परिवार की भावनाओं की कद्र करते हुए अपने कदम वापस खींचती है या फिर मधुर की बात मानकर बिगबी की बातों को हवा में उड़ा देती है.

नाराजगी क्यों?

अब करोड़ों रूपये का सवाल यह उठता है कि ऐश्वर्या राय आखिर क्या हैं और स्वयं अमिताभ ने कभी इस तरह के (सेमी-एडल्ट/एडल्ट) फिल्मों में काम किया है कि नहीं? बिना लाग-लपेट के सभी का उत्तर होगा कि ऐश एक कमर्शियल ऐक्ट्रेस (काफी हॉट, बेइन्तहा चार्मिंग और सेक्सी) हैं और अमिताभ ऐश से भी ज्यादा कमर्शियल, टैलेंटेड और मोस्ट सेलिंग एक्टर हैं.

जहां तक बात है एक्सपोज करने की, ऐसा नहीं है कि ऐश ने कभी खुद को

A still from film Shabd - 2005 (Courtesy: aishwaryaweb.com)

एक्सपोज नहीं किया हो. सबसे पहले तो मिस वर्ल्ड बनने के लिए किया. एक से एक उत्तेजक पोज के फोटोज इन्टरनेट पर थोक में मौजूद है. फिल्म ‘शब्द’ (2005, डायरेक्टर- लीना यादव, प्रोड्यूसर- प्रीतिश नंदी कम्यूनिकेशंस) में उसने संजय दत्त और जायेद खान के साथ काफी हॉट सीन्स दिए हैं. फिल्म ‘धूम-2’ में उसने न केवल काफी एक्स्पोजिंग बिकनी पहनी है बल्कि ऋतिक रोशन के साथ किसिंग सीन आजतक कोई भूला नहीं है. आप यह भी भूले नहीं होंगे कि ऐश एक बंगाली फिल्म के लिए सेमीन्यूड सीन दे चुकी हैं, बाद में यह फिल्म तमिल में ‘दासी’ के नाम से रिलीज की गई थी. तो अब स्क्रिप्ट की डिमांड और मार्केट के हिसाब से एक ग्रेड आगे बढ़ते हुए ऐश ने न्यूड सीन दे दिया तो एक एक्टर एक तौर पर अमिताभ की नाराजगी समझ से परे है.

Big B & Jiah in film Nishabd - 2007 (Courtesy: Forum.santabanta.com)

एक ससुर होने के नाते अपनी पुत्रवधु से उनकी अपेक्षा और उनकी नाराजगी को गलत नहीं माना जा सकता. मगर, इससे पहले अमिताभ को खुद अपने गिरेबान में झांकना होगा कि फिल्म ‘निशब्द’ (2007) में अमिताभ ने कला, कहानी और बाज़ार के नाम पर कैसा रोल किया है! वह भी उम्र के उस दौर में जब वे रोमांटिक हीरो का रोल करने का दावा नहीं कर सकते है. ‘निशब्द’ की जबरदस्त उत्तेजक हिरोइन ‘जिया खान’ के साथ, जो 2007 में केवल 19 साल की थी…मतलब अमिताभ की नतिनी (grand daughter) के उम्र की, उनके अन्तरंग सीन्स क्या कहते हैं? तब अमिताभ 65 साल के थे.

जैसा बोवोगे वैसा ही काटोगे

यह तो वही बात हो गई – गुड़ खाए पर गुलगुल्ले से परहेज या आजकल जुबां पे चस्पा एक गाने की तर्ज पर कहें तो कह सकते हैं- आप करो तो रासलीला है, हम करें तो कैरेक्टर ढीला है. बिग बी को यह ध्यान में रखना चाहिए कि ‘जैसा बोवोगे वैसा ही काटोगे”. जब बिग बी खुद ऐसा काम करें तो अच्छा और जब उनकी बहू करे तो बुरा. वैसे कहने वाले तो यह भी कह रहे हैं कि चाहे ऐश हो अमिताभ, यह सब वे समाजसेवा के लिए तो नहीं कर रहे हैं, आख़िर इसके लिए उन्हे मेहनताना मिलता है, पब्लिसिटी मिलती है. उनकी ग्लैमर और शोहरत में बढ़ोतरी होती है.

Jiah Khan in film Nishadb (Courtesy: blockbusters.in)

“सठिया गए” हैं के बाद को जो भी मुहावरा, जैसे- सत्तरिया, असिया गए आदि-आदि, होता हो उससे से अधिक मैक्सिमम डिग्री वाला मुहावरा अमिताभ के लिए मुफीद होगा. तभी तो एक महान कलाकार होने के बावजूद एक दूसरे महान कलाकारा के काम पर वे अपनी नाराजगी जता रहे हैं.

वैसे बी टाउन और बॉलीवुड में बुजुर्गवारों के नादिरशाही फरमान जारी होते रहे हैं. बॉलीवुड की सबसे पुरानी और बड़ी फैमिली ‘कपूर खानदान’ के मरहूम पृथ्वी राजकपूर और राजकपूर ने घर की बहू-बेटियों के ऐक्ट्रेस बनने पर रोक लगा दी थी. मगर नई पीढ़ी भला कहां मानने वाली थी. कुछ विरोध-कुछ समर्थन झेलते दादा-परदादा की प्रतिष्ठा के मद्दे नजर करिश्मा कपूर ने कुछ हद तक काफी साफ़-सुथरी फ़िल्में की मगर करीना कपूर… कब “चमेली बाई” बन गई, यह सबको पता है.

ओवरऑल, इस मुद्दे पर लोगों के अपने-अपने विचार होंगे…मगर…शिट…अवर ऑर्थोडॉक्स पैट्रिआर्कल थिकिंग एंड मेल डोमिनेंट इंडियन फ़ैमिली. हम कभी मॉड नहीं हो सकते.

अपने ससुर की बात मान जाना ऐश…नहीं तो एक ट्रेडिशनल बहू की तरह कहीं……केरोसिन…!!!

Advertisements

3 Responses to “आप करो तो रासलीला, हम करें तो कैरेक्टर ढीला”

  1. Chitra Says:

    kya mudda uthaya hai…society ke har sasoor ko aur ghar har male sadasya ko ye ek baar padhna chahiye, sirf “Babool” mein ideal, emotional aur supportive sasoor ka role karne se kuch nahi hoga bachchan sahab…In bhavanao ko real life mein bhi laiye…

  2. Murari Pareek Says:

    Bhai inki koi kahani sunani nahi hai ye to pedaish nange hotey hai kyon itna ho halla

  3. Alok Dwivedi Says:

    क्या लिखते हैं सर… जादू है आपकी कलम में। जब श्याम रासलीला के बारे में लिखता है तो बड़ा अच्छा लगता है।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: